5/03/2015

राम चरितमानस- किन लोगों से कौन-कौन सी बातें नहीं करनी चाहिए

हमारे आसपास कई लोग हैं और सभी का स्वभाव, आदतें अलग-अलग होती हैं। इस कारण किस स्त्री या पुरुष के साथ हमें कैसी बात नहीं करनी चाहिए, इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए। यदि हम किसी व्यक्ति के स्वभाव को समझते हैं और उससे न करने योग्य बातें करने से बचते हैं तो बातचीत करना बहुत आसान हो जाता है। यहां जानिए गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित श्रीरामचरित मानस के अनुसार हमें किस स्त्री या पुरुष से कैसी बातें नहीं करना चाहिए...

यह भी पढ़े-  शास्त्रों के अनुसार स्त्रियों को कभी नहीं करने चाहिए ये 4 काम
ये है प्रसंग
जब हनुमानजी ने खोज करके श्रीराम को बताया कि सीता माता रावण की लंका में हैं तो श्रीराम अपनी वानर सेना के साथ दक्षिण क्षेत्र में समुद्र किनारे पहुंच गए थे। तब समुद्र पार करते हुए लंका पहुंचना था। श्रीराम वानर सेना सहित समुद्र किनारे तीन दिनों तक रुके हुए थे। श्रीराम ने समुद्र से प्रार्थना की थी कि वह वानर सेना को लंका तक पहुंचने के लिए मार्ग दें, लेकिन समुद्र ने श्रीराम के आग्रह को नहीं माना और इस प्रकार तीन दिन व्यतीत हो गए। तीन दिनों के बाद श्रीराम समुद्र पर क्रोधित हो गए और उन्होंने लक्ष्मण से कहा कि-

जानिए राशि अनुसार अचूक दिव्य मंत्र

अक्सर कई ज्योतिष उपाय एक साथ पढ़ने पर व्यक्ति असमंजस में पड़ जाता है कि आखिर उसके लिए क्या उचित है और क्या अनुचित।

व्यक्ति अगर अपनी राशि के अनुसार मंत्र जाप करे तो निसंदेह शीघ्र सफलता मिलती है। मंत्र पाठ से व्यक्ति कई प्रकार के संकट से मुक्त रहता है। आर्थिक रूप से संपन्न हो जाता है।
साथ ही जो लोग आपकी राह में बाधा उत्पन्न करते हैं वह भी कमजोर हो जाते हैं। प्रस्तुत है आपकी राशि के अनुसार अचूक दिव्य मंत्र, इसे जपने के पश्चात किसी अन्य पूजा या तंत्र की आवश्यकता नहीं है।

5/02/2015

पौराणिक कथा- जब भगवान विष्णु ने किया माता पार्वती के साथ छल

माना जाता है कि बद्रीनाथ धाम कभी भगवान शिव और पार्वती का विश्राम स्थान हुआ करता था। यहां भगवान शिव अपने परिवार के साथ रहते थे लेकिन श्रीहरि विष्णु को यह स्थान इतना अच्छा लगा कि उन्होंने इसे प्राप्त करने के लिए योजना बनाई।
यह भी पढ़े-  भगवान विष्णु के 24 अवतार, 23 हो चुके है 24 वा (कल्कि अवतार) है बाकी
Mythological story of Vishnu and Parvti
पुराण कथा के अनुसार सतयुग में जब भगवान नारायण बद्रीनाथ आए तब यहां बदरीयों यानी बेर का वन था और यहां भगवान शंकर अपनी अर्द्धांगिनी पार्वतीजी के साथ मजे से रहते थे। एक दिन श्रीहरि विष्णु बालक का रूप धारण कर जोर-जोर से रोने लगे। उनके रुदन को सुनकर माता पार्वती को बड़ी पीड़ा हुई। वे सोचने लगीं कि इस बीहड़ वन में यह कौन बालक रो रहा है? यह आया कहां से? और इसकी माता कहां है? यही सब सोचकर माता को बालक पर दया आ गई। तब वे उस बालक को लेकर अपने घर पहुंचीं।

Virgil quotes and thoughts in Hindi (वर्जिल के अनमोल विचार और कथन)

वर्जिल रोम के प्राचीन कवि थे। इनका जन्म 15 अक्टूबर 70 ईसा- पूर्व में हुआ था और 21 सितंबर 19 ईसा-पूर्व को उनका निधन हो गया था। इनका पूरा नाम पुब्लियस वेरगिलियस मारो था।

(यह भी पढ़े - आचार्य चाणक्य के 600 अनमोल विचार )

वर्जिल के अनमोल विचार और कथन :-

Quote 1 : उसी व्यक्ति का यकीन करिए जो वैसी ही मुश्किल से गुज़र चुका हो।

Quote 2 : जो लोग मुश्किलों का सामना करना जानते हैं, अच्छी किस्मत उन्हीं के साथ होती है।
प्यार के बदले प्यार मिलता है। प्यार किसी तरह के नियम-कानून को नहीं समझता है और ऐसा ही सभी के साथ है।

Quote 3 : ऐसे व्यक्ति से आपकी मुलाकात कभी-भी नहीं होगी जो पूछेगा कि जंग ताकत से जीती या स्ट्रेटजी बनाकर।

Quote 4 : गुज़रता वक्त कभी वापस नहीं आता है।

Quote 5 : वही लोग सफल होते हैं जो जानते हैं कि वे सफल ही होंगे।